Type something and hit enter

author photo
By On
हेलो दोस्तों। आप अच्छे तरीके से जानते है कि Google Adsense और Affiliate Marketing क्या होती है अगर आप नहीं जानते तो आप ये Article read कर सकते है आप जान जायेंगे कि Google Adsense और Affiliate Marketing क्या होते है।




Google Adsense Vs Affiliate Marketing - Which One Is Better In Hindi, Google adsense aur affiliate marketing me kya difference hai,
Google Adsense Vs Affiliate Marketing - Which One Is Better In Hindi 


दोस्तों Google Adsense और Affiliate Marketing दोनों ही इंटरनेट से पैसे कमाने के सबसे अच्छे तरीके है अगर आपके पास वेबसाइट Youtube चैनल है तो आप Adsense और एफिलिएट मार्केटिंग से अच्छे पैसे बना सकते है। आज के time में बहुत से लोग इन दोनों से अच्छी इनकम कर भी रहे है क्योकि यह दोनों तरीके ब्लॉग और यूट्यूब से पैसे कमाने के main Source बन चुके है। friends वैसे तो बहुत से तरीके है इंटरनेट से पैसे कमाने के लेकिन यह दोनों तरीके सबसे बेस्ट है आज मैं आपको इन्हीं के बारे में बताऊंगा किGoogle Adsense और affiliate marketing में सबसे बेस्ट कौनसा है और किसमें ज्यादा इनकम है इन दोनों में क्या difference है इनके क्या फायदे और क्या क्या नुक्सान है इन सभी के बारे में मैं आपको डिटेल्स से बताऊंगा इसलिए आर्टिकल को अंत तक पढ़े। 


Google Adsense Vs Affiliate Marketing - Which One Is Better



Google Adsense और Afiliate marketing में सबसे बेस्ट तरीका कोनसा है और इनमे आपके लिए सबसे बेस्ट कौनसा है ? इनके फायदे और नुकसान क्या है ?  नीचे आपको मैं विस्तार में बताऊंगा। तो सबसे पहले हम Google Adsense के बारे में जान लेते है। 


यह भी पढ़े :


Google Adsense


Google Adsense, गूगल का एक प्रोडक्ट है इसमें आपको adsense के माध्यम से अपने ब्लॉग वेबसाइट पर ads Show करवा सकते है और इन ads से अपने बलॉग से ऑनलाइन पैसे कमा सकते है। और friends मैं आपको बता दूँ ऑनलाइन पैसे कमाने का सबसे बेस्ट तरीका Google Adsense है क्योकि यह सबसे पॉपुलर और सबसे ज्यादा यूज़ होने वाला Advertising प्रोग्राम है।


Google Adsense से पैसे आप ऐसे ही नहीं कमा सकते इसके लिए आपके पास ब्लॉग वेबसाइट या आपके पास Youtube चैनल होना चाहिए। और इसके बाद adsense अकाउंट बनाना होता है और अपने ब्लॉग वेबसाइट और यूट्यूब पर ads लगाने होते है। ads लगाने के बाद आपकी earning होना start हो जाती है।


गूगल adsense को बहुत सी कंपनी अपने प्रोडक्ट को promote करने के लिए ad देती है। और Google इनके बदले इन कंपनी से कमीशन लेती है और इस कमीशन में  68% publisher को देता है और बाकी खुद रख लेता है। ऐसे गूगल adsense publisher को ads देता है। 



 अब आपको मैं google adsense यूज़ करने कुछ फायदे और नुकसान के बारे में बताऊंगा 


Google Adsense यूज़ करने के फायदे :


Friends Google adsense के फायदे ही फायदे है जो मैं आपको नीचे बता रहा हूँ। 


  • Google Adsense के लिए कोई भी व्यक्ति अप्लाई  कर सकता है इसके लिए आपके पास ब्लॉग वेबसाइट या यूट्यूब चैनल होना चाहिए। 
  • Google आपके ब्लॉग वेबसाइट और यूट्यूब ;चैनल पर ads कंटेंट और विज़िटर्स के पसंद के दिखाता है। 
  • Google Adsense में आपको ads पर क्लिक के पैसे मिलते है।
  • Google Adsense अपने Publisher को अच्छा revenue देता है।
  • आपके वेबसाइट पर जितना अधिक ट्रैफिक होगा आपकी उतनी ही अधिक इनकम होगी। 


Google Adsense यूज़ करने के नुकसान :


  • गूगल ऐडसेंस में आपको ईमेल सपोर्ट नहीं मिलता है। 
  • एडसेंस की Policy और Rules बहुत सख्त है अगर आप छोटी सी गलती भी करते हो तो आपका Google Adsense अकाउंट बंद हो सकता है। 
  • एडसेंस के ads अपने ब्लॉग वेबसाइट पर लगाने से ब्लॉग वेबसाइट की स्पीड थोड़ी कम हो जाती है। 
  • सबसे main नुकसान - अगर आप adsense यूज़ करते है तो आप किसी दूसरे advertising प्रोग्राम का use नहीं कर सकते है। 
  • एडसेंस ads को optimize नहीं कर सकते है। 


Affiliate Marketing 


दोस्तों आप एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जानते तो होंगे अगर नहीं तो आप हमारी Affiliate marketing क्या है वाली पोस्ट पढ़ सकते है और वैसे मैं आपको थोड़ी बहुत जानकारी दे देता हूँ। Affiliate marketing google adsense का बिल्कुल विपरीत है इसमें कंपनी अपने प्रोडक्ट को प्रमोट करने के लिए खुद ही एफिलिएट प्रोग्राम चलती है। इस एफिलिएट प्रोग्राम को कोई भी ज्वाइन कर सकता है। अगर आपके पास वेबसाइट या यूट्यूब चैनल है तो और भी अच्छी बात है लेकिन अगर नहीं भी है तो भी आप एफिलिएट मार्केटिंग से इनकम कर सकते है इसमें आपको google adsense की तरह क्लिक करने के पैसे नहीं मिलते इसमे कोई अगर आपके प्रोडक्ट पर क्लिक करके उसे खरीद लेता है तो आपको कुछ कमीशन मिलता है।



अब आप सोच रहे होंगे कि कितना कमीशन मिलता है तो आइये जान लेते है - Friends एफिलिएट मार्केटिंग में कमीशन कम्पनी ही तय करती है। और अलग अलग प्रोडक्ट पर अलग अलग कमीशन होता है। आप जिस एफिलिएट प्रोग्राम से जुड़ना चाहते है तो आप उसमे प्रोडक्ट्स पर कमीशन चेक कर सकते है। और आप अगर जायदा जानना चाहते तो आप हमारी एफिलिएट मार्केटिंग वाली पोस्ट पढ़ सकते है।  friends अब हम affiliate marketing के फायदे और नुक़सान के बारे में जान लेते है। 


यह भी पढ़े :


Affiliate Marketing यूज़ करने के फायदे :


  • एफिलिएट मार्केटिंग से आप कम टाइम में अधिक इनकम कर सकते है। 
  • इसमें अगर आपके वेबसाइट पर ट्रैफिक नहीं है फिर भी आप अच्छे पैसे कमा सकते है। लेकिन selling important है। 
  • इसमें Google adsense की तरह कोई बैन नहीं कर  सकता है। 
  • और इसमें अपने हिसाब से प्रोडक्ट को लगा सकते है। 
  • इसमें आप लंबे टाइम तक इनकम कर सकते है। 


Affiliate Marketing यूज़ करने के नुकसान :



  • एफिलिएट मार्केटिंग में आपकी इनकम selling से ही होगी ads पर क्लिक करने से नहीं होगी।
  • एफिलिएट मार्केटिंग में success पाना चाहते हो तो आपको मार्केटिंग की नॉलेज होना बहुत जरूरी है। 
  • इसमें आपकी earning fix नहीं होती है। 
  • अगर आप अच्छी इनकम करना चाहते हो तो आपको visitors की पसंद पर ध्यान देना होगा अगर आप असा नहीं करते है तो आपको नुकसान हो सकता है। 
  • आपके ब्लॉग वेबसाइट पर कम से कम 5000 ट्रैफिक होना चाहिए अगर इतना ट्रैफिक नहीं है तो आप इनकम नहीं कर सकते है। 


तो friends ये तो थे google एडसेंस और affiliate मार्केटिंग के फायदे और नुकसान। अब आपको मैं गूगल एडसेंस और एफिलिएट मार्केटिंग में अंतर बताऊंगा। 


Google Adsense और Affiliate Marketing में अंतर :


अब हम गूगल एडसेंस और एफिलिएट मार्केटिंग में क्या अंतर है उसके बारे में पॉइंट टू पॉइंट जानेंगे। 


1. Google Adsense में ads पर क्लिक होने से इनकम होती है और एफिलिएट मार्केटिंग में Selling होने पर इनकम होती है। 

2. Adsense अकाउंट हमे सिर्फ एक बार बनाना पड़ता है लेकिन एफिलिएट मार्केटिंग में आपको अलग अलग कंपनी के एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करने के लिए अकाउंट बनाना पड़ता है। 

3. गूगल adsense में आपके पास ट्रैफिक नहीं है तो आप इनकम नहीं कर सकते है लेकिन एफिलिएट मार्केटिंग में आप बिना ट्रैफिक के भी इनकम कर सकते है। 

4. एडसेंस  के लिए ट्रैफिक जरूरी है लेकिन एफिलिएट मार्केटिंग में इतना इम्पोर्टेन्ट नहीं है एफिलिएट मार्केटिंग में आपका users के लिए ट्रस्ट जरूरी है। 

5. अगर हम से थोड़ी बहुत गलती हो जाती है तो हमारा एडसेंस अकाउंट ससपेंड होने का खतरा रहता है लेकिन एफिलिएट मार्केटिंग में अकाउंट सस्पेंड का लोई खतरा नहीं होता। 


Friends दोनों में बहुत अंतर है और दोनों एक दूसरे से बिलकुल उल्टे है गूगल एडसेंस और एफिलिएट मार्केटिंग के अलग अलग फायदे और नुकसान है। दोनों ही बेस्ट source है ऑनलाइन इनकम करने के लिए बस अब आपको चुनना है कि आप किस तरीके से ऑनलाइन earning करना चाहते है। 


दोस्तों कैसा लगा आज का हमारा आर्टिकल "Google Adsense Vs Affiliate Marketing - Which One Is Better In Hindi" कमेंट करके बताये और अपने friends के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे। 


Thanks For Visit.

Click to comment